राफेल मुद्दे पर नरेंद्र मोदी(Narendra Modi) का क्या है कहना………

राफेल मुद्दे पर नरेंद्र मोदी(Narendra Modi) का क्या है कहना………

राफेल लड़ाकू विमान सौदे को लेकर कांग्रेस द्वारा निजी हमले बढ़ाये जाने के बीच प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने मंगलवार को कांग्रेस पर निशाना साधा और कहा कि कांग्रेस सरकार पर कीचड़ उछाल रही है क्योंकि उसे विकास जैसे मुद्दों पर चर्चा करने के मुकाबले यह आसान लगता है। मोदी ने भोपाल के जंबूरी मैदान में भाजपा कार्यकर्ता महाकुंभ रैली को संबोधित करते हुए भले ही राफेल सौदे का नाम नहीं लिया पर उनकी यह टिप्पणी कांग्रेस के आरोपों पर पलटवार के रूप में देखी जा रही है। भारत ने 36 राफेल लड़ाकू विमानों के लिए 58 हजार करोड़ रूपये का फ्रांस से सौदा किया है।

मोदी बोले- उछाला जा रहा कीचड़

प्रधानमंत्री ने कहा, ‘वह (कांग्रेस) कीचड़ इसलिए उछाल रही है क्योंकि उसे यह आसान लगता है…वह पहले भी छींटाकशी करते रहे हैं। लेकिन मैं उन्हें बताना चाहता हूं कि आप हमारे ऊपर जितना कीचड़ फेंकोगे, कमल (भाजपा का चुनाव चिह्न) उतना ही खिलेगा।’ उन्होंने कहा, ‘अब कांग्रेस पार्टी हिन्दुस्तान में गठबंधन करने में सफल नहीं हो रही है। यदि गठबंधन सहयोगी मिल भी जायें तो गठबंधन सफल नहीं होगा। इसलिए (कांग्रेस द्वारा) भारत के बाहर समर्थन ढूंढा जा रहा है।’

उधर, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने अपने संसदीय क्षेत्र अमेठी में प्रधानमंत्री पर निशाना साधा और कहा कि प्रधानमंत्री ने देश के चौकीदार होने का दावा किया था। ‘‘किंतु उन्होंने 30 हजार करोड़ रूपये अंबानी की जेब में डाल दिये।’’ उन्होंने दावा किया कि राफेल सौदे के बारे और तथ्य जल्द ही सामने आएंगे। राहुल ने पत्रकारों से बातचीत में कहा, ‘अभी तो शुरूआत है, राफेल सौदे के बारे में और तथ्य सामने आयेंगे, विजय माल्या के बारे में भी जानकारी सामने आएगी, जल्द ही सच्चाई आपके सामने होगी और आपको निर्णय लेना।’

कांग्रेस सरकार पर राफेल सौदे में अनिल अम्बानी की रिलायंस डिफेंस लि. को फायदा पहुंचाने का आरोप लगाती रही है। विपक्षी दल ने यह भी कहा कि अब यह समझ में आने लगा है कि इस सरकार के कार्यकाल में लोकपाल क्यों नहीं बनाया गया। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल ने दिल्ली में संवाददाताओं से कहा, ‘अब पता चला कि लोकपाल की नियुक्ति क्यों नहीं हुई। लोकपाल होता तो सारी सच्चाई सामने आ जाती।’

narendra modi

उन्होंने कहा, ‘प्रधानमंत्री जी, आप अच्छे दिन भूल जाओ और सच्चे दिन लाओ। सच्चाई बता दो कि क्यों आपने ये किया, किस वजह से ये किया, क्या मानसिकता थी?’ राफेल विमान सौदे में कांग्रेस के तीखे हमलों का सामना कर रही भाजपा ने मंगलवार को पलटवार करते हुए कहा कि इस सौदे में विपक्षी पार्टी को कमीशन खाने को नहीं मिला, इसीलिए वह छटपटा रही है। भाजपा प्रवक्ता संबित पात्रा ने संवाददाताओं से बातचीत में दावा किया कि 2016 में राफेल सौदे के कागजात कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के जीजा राबर्ट वाड्रा के कथित मित्र संजय भंडारी के घर से छापे के दौरान मिले थे। पात्रा ने सवाल किया कि ये संवेदनशील कागज़ वहाँ तक कैसे पहुंचे?

राहुल गांधी पर निशाना साधते हुए पात्रा ने कहा कि देश को लूटने वाले, देश में डाका डालने वाले और देश की सुरक्षा के साथ खिलवाड़ करने वाले आज प्रधानमंत्री पर सवाल कर रहे हैं। पात्रा ने आरोप लगाया, ‘राफेल विमान खरीद में कांग्रेस पार्टी को कमीशन खाने को नहीं मिला इसीलिए कांग्रेस पार्टी छटपटा रही है।’

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी जी की तबियत बेहद नाजुक। नरेंद्र मोदी और अमित शाह बुधवार शाम को एम्स पहुंचे

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी जी की तबियत बेहद नाजुक। नरेंद्र मोदी और अमित शाह बुधवार शाम को एम्स पहुंचे

अटल बिहारी वाजपेयी जी को लाइफ सपोर्ट सिस्टम पर रखा गया है। एम्स 11 बजे तक मेडिकल बुलेटिन जारी कर सकता है। गुरुवार सुबह से ही लोगों के एम्स आने का सिलसिला शुरू हो गया। उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू सुबह 6.30 बजे एम्स पहुंचे। वे कुछ देर वहां रहे। करीब नौ बजे भाजपा अध्यक्ष अमित शाह भी एम्स पहुंचे।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बुधवार शाम को एम्स पहुंचे थे। अटलजी को यूरिन इन्फेक्शन की शिकायत के चलते 11 जून को एम्स में भर्ती किया गया था। वे पिछले 9 साल से बीमार चल रहे हैं। मोदी से पहले केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी भी उनसे मिलने एम्स पहुंचीं। इसके बाद केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल, सुरेश प्रभु, हर्षवर्धन, जितेंद्र सिंह और अश्विनी कुमार चौबे भी एम्स गए।

लाल किले पर भाषण में मोदी ने अटलजी को याद किया

72वें स्वतंत्रता दिवस पर लाल किले से भाषण के दौरान नरेंद्र मोदी ने अटल बिहारी वाजपेयी को याद किया। उन्होंने कहा- कश्मीर के मुद्दे का हल निकालते वक्त हम अटलजी के नजरिए पर चलेंगे, जो इंसानियत, कश्मीरियत और जम्हूरियत पर आधारित था।

2009 में तबीयत बिगड़ी, वेंटिलेटर पर रखा गया : 2009 में भी वाजपेयी की तबीयत बिगड़ गई थी। उन्हें सांस लेने में दिक्कत के बाद कई दिन वेंटिलेटर पर रखा गया था। हालांकि, बाद में वे ठीक हो गए और उन्हें अस्पताल से छुट्टी दे दी गई। इसके बाद कहा गया कि वाजपेयी लकवे के शिकार हैं। इस वजह से वे किसी से बोलते नहीं थे। बाद में उन्हें स्मृति लोप हो गया। उन्होंने लोगों को पहचानना भी बंद कर दिया।

तीन बार प्रधानमंत्री बने : वाजपेयी सबसे पहले 1996 में 13 दिन के लिए प्रधानमंत्री बने। बहुमत साबित नहीं कर पाने की वजह से उन्हें इस्तीफा देना पड़ा। दूसरी बार वे 1998 में प्रधानमंत्री बने। सहयोगी पार्टियों के समर्थन वापस लेने की वजह से 13 महीने बाद 1999 में फिर आम चुनाव हुए। 13 अक्टूबर 1999 को वे तीसरी बार प्रधानमंत्री बने। इस बार उन्होंने 2004 तक अपना कार्यकाल पूरा किया। 2014 के दिसंबर में अटलजी को भारत रत्न देने का एेलान किया गया। मार्च 2015 में तत्कालीन राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने प्रोटोकॉल तोड़ा और अटलजी को उनके घर जाकर भारत रत्न से सम्मानित किया।

Update: 17/8/2018 Time 10:41 AM

भारतीय राजनीति के इतिहास का ध्रुव तारा नहीं रहा

भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने अटलजी के निधन पर शोक जाहिर करते हुए कहा कि आज अटलजी के देहांत के साथ ही भारतीय राजनीति के इतिहास का ध्रुव तारा नहीं रहा। शाह ने आगे कहा कि देश की संसद ने सन 1957 से गरीबों की आवाज को खोया है, भारतीय जनसंघ से स्थापक सदस्य और भाजपा ने अपना पहला राष्ट्रीय अध्यक्ष को खोया हैं और करोड़ों युवाओं ने अपनी प्रेरणा को खोया हैं। अटलजी का व्यक्तित्व बहुआयामी होने के साथ-साथ पहले जनसंघ और बाद में भारतीय जनता पार्टी को बनाना और हम सब कार्यकर्ताओं को मार्गदर्शन देने का कार्य किया है।

अमित शाह ने कहा कि बीजेपी के लिए तो ये अपूर्ण क्षति है जिसकी पूर्ति कभी हो नहीं सकती है। अटलजी ने कई सारे संघर्ष किए है चाहे वह आपातकाल की लड़ाई हो या फिर कश्मीर की आवाज को यूएन में बुलंद करना हो या फिर हिन्दी को प्रमुखता से देश में फैलाव के साथ आगे ले जाना हो। अटलजी ने कभी भी बीजेपी के नेता के तौर पर काम नहीं किया बल्कि देश के नेता के तौर पर काम किया है।

अमित शाह ने कहा कि आज हम बीजेपी के सभी कार्यकर्ता आज संकल्प लेते है जो अटलजी ने कार्य छोड़ा है हम उसे आगे लेकर जाएंगे।

India Stocks Rise Most in Month as Fed Rate Increase Eases Worry

India Stocks Rise Most in Month as Fed Rate Increase Eases Worry

Indian stocks climbed the most in a month, following additions in worldwide values, after the Federal Reserve cleared months of uncertainly by raising getting expenses.

Tata Steel Ltd. was the top entertainer on the S&P file. Hindalco Industries Ltd. what’s more, Vedanta Ltd., the country’s biggest aluminum and copper makers, energized more than 3 percent each. Dependence Industries Ltd., the proprietor of the world’s biggest refining complex, took off to a five-month high. Tata Global Beverages Ltd., which has an endeavor with Starbucks Corp., was among the top gainers on a gage of mid-top stocks.

The Sensex surged 1.2 percent, the steepest move since Nov. 19, and the S&P BSE MidCap Index posted its greatest increase in two months. Worldwide markets cheered the Fed’s affirmations that any further moves will be steady after the first increment in very nearly 10 years. Outside assets pulled $874 million from nearby stocks this quarter in the keep running up to the Fed meeting.

“The greatest danger the business sector had in the most recent six months was the Fed rate trek and that is behind us now,” V. Srivatsa, an asset director at UTI Asset Management Co., which has $14 billion, said in a meeting with Bloomberg TV India in Mumbai. “We anticipate that the business sector will hit rock bottom at these levels.” He expects shares of force utilities to beat the lists throughout the following six months.

Tata Steel bounced 5.1 percent, the most since Oct. 5. Hindalco rose 3.5 percent, paring the current year’s misfortune to 48 percent. Vedanta surged 3.7 percent to its most elevated since Dec. 8. Dependence climbed 3.2 percent to its largest amount since July 28.

GST Delay

Thursday’s additions may not stretch out as concern becomes about the entry of the products and-administrations duty bill in parliament. An Indian government official Wednesday discounted a very late concurrence with the restriction on a proposed national deals duty, managing a hit to Prime Minister Narendra Modi’s change plan.

“It would appear that the GST bill won’t be gone in the flow parliament session,” said Arun Kejriwal, an executive at Mumbai-based Kejriwal Research and Investment Pvt. “The business sector has effectively progressed for four days, so further picks up may be constrained.”

The postponement jeopardizes Modi’s arrangement to execute the merchandise and-administrations charge from April 2016. When parliament passes the bill to revise the Constitution and clear path for the GST, it must be approved by no less than 15 of India’s 29 states under the watchful eye of it turns into a law.

Universal financial specialists sold a net $58.7 million of Indian stocks on Dec. 16, paring the current year’s inflows to $2.67 billion. The Sensex has fallen 6.2 percent this year and exchanges at 15.2 times anticipated 12-month profit, contrasted and a different of 11.2 for the MSCI Emerging Markets Index.

[RICH_REVIEWS_SHOW category=”post”]
[RICH_REVIEWS_FORM]

PM Narendra Modi world’s ninth most powerful person in Forbes list

PM Narendra Modi world’s ninth most powerful person in Forbes list

NEW YORK: Prime Minister Narendra Modi has been positioned as the world’s ninth most powerful person by Forbes magazine in a 2015 list which is topped by Russian President Vladimir Putin.

Modi was placed fourteenth in the 2014 Forbes list of world’s powerful people.

Forbes while releasing the list today at the same time said governing 1.2 billion individuals in India requires more than “shaking hands” and that Modi must pass his party BJP’s change plan and keep “fractious opposition” under control.

German Chancellor Angela Merkel is at the second spot took after by US President Barack Obama (third) and Pope Francis (fourth) and Chinese President Xi Jinping (fifth).

Aside from Modi who is at the ninth position, others in the main ten are Microsoft Founder Bill Gates at the 6th spot, US Federal Reserve Chairperson Janet Yellen (7), UK Prime Minister David Cameron (8) and Google’s Larry Page(10)

About Modi, the magazine said that India’s “populist” Prime Minister managed 7.4 per cent GDP development in his first year in office, and “raised his profile” as a global leader during official visits with Barack Obama and Xi Jinping.

“A barnstorming tour of Silicon Valley strengthened his country’s massive importance in tech. However, governing 1.2 billion people requires more than shaking hands: Now Modi must pass his party’s change motivation and keep irritable restriction under control,” it said.

To compile the list of world’s most powerful people , the magazine said it considered many competitors from different strolls of life all around the world, and measured their energy along four measurements. They are whether the applicant has control over loads of individuals, budgetary assets controlled by every individual, whether the competitor is capable in different circles and whether the hopefuls effectively utilized their energy.

The main other Indian in the most capable people’s list is Reliance Industries Chairman Mukesh Ambani who is positioned at the 36th position.

Among Indian- origin people, steel tycoon Lakshmi Mittal is at the 55th spot while Microsoft CEO Satya Nadella is positioned 61st.

About Putin, the magazine said he “continues to prove he’s one of the few men in the world powerful enough to do what he wants — and get away with it”.

“Global authorizations set up after he seized Crimea and battled as a substitute in the Ukraine have kneecapped the Ruble and driven Russia into extending subsidence, however haven’t hurt Putin one piece: In June his endorsement appraisals came to an untouched high of 89 for each penny,” it noted.

The magazine said that German Chancellor Angela Merkel continues her reign as the most powerful woman on the planet for 10 years running.
About Obama, Forbes said there is doubtlessly the US remains the world’s greatest economic, cultural, diplomatic, technological and military power.
“However, as Obama enters the last year of his administration, it’s reasonable his impact is contracting, and it’s a greater battle than any time in recent memory to complete things.

“At home, his approval ratings are perpetually stuck under 50 per cent; abroad, he’s outshined by Angela Merkel in Europe, and outmaneuvered by Putin in the Middle East,” it added.

[RICH_REVIEWS_SHOW category=”post”]
[RICH_REVIEWS_FORM]

US President Barack Obama Says US and India Can be Best Partners

US President Barack Obama Says US and India Can be Best Partners

US President Barack Obama said today the United States could be India’s “best accomplice,” as he wrapped up a three-day visit to New Delhi by highlighting the imparted estimations of the world’s greatest vote based systems

Addressing a group of people of youngsters, the US president emphasized that the relationship in the middle of Washington and New Delhi “can be one of the characterizing organizations of this century.”

The discourse was the finale of a stuffed visit which has seen a sensational upturn in a regularly harried relationship, including the marking of another “kinship” presentation between President Obama and Prime Minister Narendra Modi, who was denied visa by the US till short of what a year back.

“India and the United States are not simply characteristic accomplices – I accept that America can be India’s best accomplice,” said Mr Obama in the wake of getting a happy welcome from a gathering of around 1,500 individuals.

“Obviously, no one but Indians can choose India’s part on the planet. However I’m here in light of the fact that I am completely persuaded that both our people groups will have more occupations and opportunity, our countries will be more secure, and the world will be a more secure and all the more simply place when our two popular governments stand together,” he said.

President Obama’s discourse was the last engagement on his visit, the focal point bit of which was his participation as boss visitor at Monday’s Republic Day parade, a first for a US president.