सोशल मीडिया साइट फेसबुक ने उपभोक्ताओं के डाटा को लेकर शुक्रवार देर रात एक बड़ा चौकाने वाला खुलासा किया। कंपनी ने शुक्रवार को बताया कि पिछले महीने के अंत में हैकर्स ने साइबर अटैक के जरिए करीब 2.90 करोड़ फेसबुक यूजर्स की निजी जानकारियों को चुरा लिया है।

विश्व की सबसे बड़ी सोशल नेटवर्किंग साइट्स में एक फेसबुक ने अपने एक बयान में कहा कि साइबर हमले की वजह से बीते कुछ समय में विश्वभर के 50 मिनियन एकाउंट प्रभावित हुए हैं। फेसबुक के अनुसार हैकर्स ने इतनी बड़ी संख्या में डाटा एक्सेस के लिए विशेष सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल किया है। इस सॉफ्टवेयर के इस्तेमाल से वह खुद ब खुद किसी भी एकाउंट में लॉग इन कर सकता है।

facbook data

फेसबुक के प्रोडक्ट मैनेजमेंट के वाइस प्रेसिडेंट गाय रोसेन ने कहा कि अब हम इस बात की भली-भांति जानकारी है कि कुछ लोग भी आपस में मिलकर इस तरह का बड़ा नुकसान कर सकते हैं। उन्होंने यह भी कहा कि हैकर्स ने तीन सॉफ्टवेयर में अपनी घुसपैठ बनाकर ‘एक्सेस टोकन’ चोरी कर लिया, जो किसी भी फेसबुक यूजर को वेबसाइट पर अपने खाते में ऑटोमेटिक लॉग-इन करने की सुविधा देता है।

नेटवर्क में यह घुसपैठ फेसबुक के इंजीनियरों की पकड़ में 25 सितंबर को आई थी और दो दिन बाद इसे ठीक कर लिया गया था। रोसेन ने बताया कि इन हैकर्स की पहचान अभी तक नहीं हो सकी है, लेकिन इन्होंने करीब 1.5 करोड़ लोगों के नाम, मोबाइल फोन नंबर और ई-मेल पते चोरी कर लिए। रोसेन ने अपनी पोस्ट में कहा कि अन्य 1.4 करोड़ लोगों को इससे भी ज्यादा नुकसान पहुंचा है। हैकर्स ने इनके नाम, मोबाइल नंबर और ई-मेल के अलावा लिंग, धर्म, घरेलू शहर, जन्म तिथि और इन लोगों की तरफ से हाल ही में ‘चेक-इन’ विकल्प का उपयोग करने वाले स्थानों की जानकारी भी चोरी कर ली।

रोसेन ने बताया कि करीब 1 करोड़ यूजर्स के खाते से अभी कोई डाटा नहीं लिया गया है, लेकिन इनका ‘एक्सेस टोकन’ अब भी हैकर्स के पास है और इस कारण इनकी गोपनीयता भी खतरे में है। रोसेन ने बताया कि इस अटैक को झेलने वाले 5 करोड़ यूजर्स का एक्सेस टोकन को रिसेट किया गया है। इसके चलते इन सभी को दोबारा से अपने खाते में लॉग-इन करना होगा।

‘व्यू एज’ टूल से हुई चोरी

फेसबुक के अनुसार, डाटा की यह चोरी ‘व्यू एज’ टूल के जरिए की गई थी। यह निजी टूल किसी भी यूजर को ये देखने में मदद करता है कि अन्य लोगों को उसके खाते का मुख्य पेज किस तरह दिखाई देता है।

social media

फेसबुक ने फिलहाल इस टूल को बंद कर दिया है। उन्होंने कहा कि अटैक किए गए 5 करोड़ यूजर्स के अलावा ‘व्यू एज’ टूल का उपयोग करने वाले 4 करोड़ अन्य यूजर्स के भी खातों के भी एक्सेस टोकन को रिसेट किया जा रहा है।

फेसबुक को जब से रूसी एजेंटों के 2016 के अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव में उसकी सेवा का दुरुपयोग की जानकारी मिली है तभी से वह गलत सूचना और चुनाव में हस्तक्षेप को खत्म करने के लिए काम कर रहा है।

फेसबुक ने कहा कि वह उन पोस्टों और तस्वीरों से संबंधित सामग्री को नहीं देखता है जो इन खातों से फैलाई जा रही थी। बल्कि, वह पेज को हटाने के दौरान उनके व्यवहार को देखता है कि क्या वे फर्जी खाते का उपयोग कर रहे हैं या स्पैम भेज रहे हैं।

data lose